मध्य प्रदेश के राज्यपाल लाल जी टंडन का निधन, लखनऊ में दी गयी अंतिम विदाई, दिग्गज राजनीतिज्ञों ने दी भावपूर्ण श्रद्धांजलि

ब्रज पत्रिका। मध्यप्रदेश के राज्यपाल महामहिम लाल जी टंडन का मंगलवार 21 जुलाई को सुबह 5 :35 मिनट पर निधन हो गया। लखनऊ के मेदांता हॉस्पिटल में उन्होंने अंतिम सांस ली। वह 85 वर्ष के थे। लालजी टंडन का लखनऊ स्थित गुलाला घाट पर शाम चार बजे के करीब अंतिम संस्कार किया गया। लालजी टंडन काफी दिन से बीमार चल रहे थे, इसीलिए मध्यप्रदेश का कार्यभार भी उत्तर प्रदेश की महामहिम राज्यपाल आनन्दी बेन पटेल ही संभाल रही थीं।

लालजी टंडन बीजेपी के कद्दावर नेताओं में शुमार थे। 12 अप्रैल 1935 को जन्मे लालजी टंडन लखनऊ से १५वीं लोकसभा में (2009-2015) के सदस्य रह चुके हैं। मूल रूप से उत्तर प्रदेश की राजनीति में सक्रिय रहे लालजी टंडन प्रदेश की भाजपा सरकारों में मंत्री भी रहे। वह अटल बिहारी वाजपेयी के करीबी रहे हैं, वाजपेयी जी उन पर गहरा विश्वास करते थे। इसी विश्वास के चलते लालजी टंडन ने चुनावों में वाजपई जी के चुनाव क्षेत्र लखनऊ की कमान भी संभाली थी। अटल जी के सक्रिय राजनीति से दूरी बनाने के बाद लखनऊ सीट से लाल जी टंडन चुनाव लड़े थे। 21 अगस्त 2018 को उन्हें बिहार का राज्यपाल बनाया गया था। इसके बाद 20 जुलाई 2019 को मध्यप्रदेश का राज्यपाल नियुक्त किया गया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके निधन पर गहरा शोक जताया है। उन्होंने उनके साथ का एक फोटो साझा करते हुए अपने ट्वीट में लिखा है कि,

“लालजी टंडन को उनकी समाजसेवा के लिए याद किया जायेगा। इसके साथ ही उन्होंने लिखा है कि उन्होंने भारतीय जनता पार्टी को उत्तर प्रदेश में मजबूत बनाने में अहम भूमिका निभाई, जनता की भलाई के लिए काम करने वाले नेता थे। उनको कानूनी मामलों की भी अच्छी जानकारी थी। पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी के साथ उन्होंने लंबा वक्त बिताया। मैं उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करता हूं।”

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल महामहिम आनंदी बेन पटेल, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान एवं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित विभिन्न राजनीतिज्ञों ने उन्हें पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने भी ट्वीट कर उन्हें श्रद्धांजलि दी है।

हालांकि उनके पुत्र आशुतोष टंडन ‘गोपालजी’ ने कोरोना के चलते लोगों से अंतिम यात्रा और अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होकर अपने अपने घरों से ही उनको श्रद्धांजलि देने की अपील की थी। ताकि सरकार के इस दिशा में जारी दिशा निर्देशों का पालन करते हुए सोशल डिस्टेनसिंग के साथ अंतिम संस्कार किया जा सके। सोशल मीडिया पर भी तमाम राजनीतिज्ञों और अन्य क्षेत्रों की दिग्गज हस्तियों ने उनके निधन पर शोक जताते हुए उनको श्रद्धांजलि दी है।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री रहे मौजूदा रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने अपने ट्वीट में उनके निधन पर शोक जताते हुए उनके अंतिम संस्कार के दौरान उनको पुष्पांजलि अर्पित करते हुए कुछ फोटो साझा किए हैं।

गृहमंत्री अमित शाह ने भी ट्वीट कर श्रद्धांजलि देते हुए कहा है कि उनका निधन देश और भाजपा के लिए अपूर्णीय क्षति है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!