दर्शकों को हँसाते-हँसाते अब रुला गए बॉलीवुड के ‘सूरमा भोपाली’ जगदीप

ब्रज पत्रिका। बॉलीवुड के लोकप्रिय कॉमेडियन जगदीप करीब 70 साल फ़िल्म इंडस्ट्री को देकर अलविदा कह गए। उनको गुरुवार, नौ जुलाई को गमगीन माहौल में सुपुर्दे-खाक किया गया। वे 81 वर्ष के थे। बांद्रा स्थित घर में बुद्धवार, आठ जुलाई को रात करीब 8.30 बजे उनकी मौत हो गई थी। जगदीप को गुरुवार सुबह मुंबई के मुस्तफा बाजार, मझगांव शिया कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक किया गया। अंतिम संस्कार में जाफ़री परिवार के सदस्यगण उनके बेटे जावेद जाफरी, नावेद जाफरी व उनके पौत्र मीजान जाफरी आदि शामिल थे। जॉनी लीवर सहित कई बॉलीवुड के कलाकार भी मौजूद थे।

लोकप्रिय फ़िल्म अभिनेता जगदीप का जन्म 29 मार्च 1939 को दतिया, मध्य प्रदेश में हुआ था। जगदीप का असली नाम सैयद इश्तियाक अहमद जाफरी था। जगदीप नाम उनको स्टेज शो की दुनिया में मिला जो आगे चलकर उनकी पहचान ही बन गया। उनके दो सुपुत्र जावेद, नावेद जाफरी और एक सुपुत्री मुस्कान जाफ़री हैं।

जगदीप ने करीब 400 फिल्मों में अभिनय किया। इसके अलावा सूरमा भोपाली नाम से एक फ़िल्म का निर्देशन भी किया था। सन 1975 में आयी फ़िल्म शोले के सूरमा भोपाली के किरदार ने उनको शौहरत की बुलंदियों पर पहुँचा दिया था।

बॉलीवुड में उन्हें ‘शोले’ फ़िल्म में प्रसिद्ध हुए किरदार की वजह से ही सूरमा भोपाली भी कहा जाता है। फिल्मी करियर की शुरुआत एक बाल कलाकार के रूप में बीआर चोपड़ा की फ़िल्म अफ़साना से की। इसके बाद अब दिल्ली दूर नहीं, के.ए. अब्बास की फ़िल्म मुन्ना, गुरुदत्त की फ़िल्म आर-पार, बिमल रॉय की फ़िल्म दो बीघा जमीन के अलावा एवीएम की फ़िल्म हम पंछी एक डाल के में शानदार अभिनय किया। इस फ़िल्म में उनके अभिनय से खुश होकर प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने उनको पुरस्कृत भी किया था।

एवीएम की फ़िल्म भाभी, बरखा और बिंदिया में लीड रोल किए। फ़िल्म ब्रह्मचारी से उन्होंने खुद को एक कॉमेडियन के रूप में स्थापित कर लिया। उनके ऊपर कई हिट गीत भी फिल्माए गए। मसलन ‘भाभी’ फ़िल्म में नंदा और उनको लेकर फ़िल्माये गये गीत चल उड़ जा रे पंछी, चली चली रे पतंग खासे लोकप्रिय हुए।

 

ब्रज के कलाकारों को भी जगदीप के निधन से दुःख

उनके निधन से जहाँ मुंबई फ़िल्म इंडस्ट्री में गहरा शोक व्याप्त है। वहीं ब्रज के कलाकारों को भी जगदीप के निधन से गहरा दुःख पहुँचा है। कलाकारों का कहना है कि जगदीप के हिंदी सिनेमा में योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा, उन्होंने जितने विविधतापूर्ण किरदारों को विभिन्न फिल्मों के जरिये निभाया, बेशक़ वह युवा कलाकार के लिए एक प्रेरणास्रोत रहेंगे।

मुम्बई में रह रहे और सैकड़ों फिल्मों में बॉलीवुड के मशहूर सितारों के साथ अभिनय कर चुके आगरा के वरिष्ठ अभिनेता रमेश गोयल ने कहा है कि उनका जाना निश्चित रूप से खला, जगदीप बॉलीवुड के बेहतरीन एक्टर थे।

सीनियर एक्टर रमेश गोयल ने श्रद्धाजंलि देते कहा,

जगदीप के जाने से बहुत दुःख हुआ। निःसंदेह वह फ़िल्म इंडस्ट्री के बहुत ही महान कलाकार थे। हिंदी फिल्मों में उन्होंने विभिन्न किरदार निभाए थे, लेकिन उनके हास्य अभिनय का तो जवाब ही नहीं रहा, उनको इसके लिए हमेशा याद किया जाएगा। हमारी फ़िल्म इंडस्ट्री में उनकी कमी हमेशा खलेगी।”

मुम्बई में रहकर अभी तक दर्जनों टीवी सीरियलों और फिल्मों में अभिनय कर चुके आगरा के युवा हास्य अभिनेता सत्यव्रत मुदगल उर्फ ‘सत्या’ ने भी उनके निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।

जगदीप को श्रद्धांजलि देते सत्यव्रत मुदगल ने कहा,

वह हिंदी सिनेमा के बहुत उम्दा कलाकार थे। कॉमेडियन के लिए मानो बहुत बड़ा स्कूल थे। फ़िल्म शोले में सूरमा भोपाली के किरदार में उनकी अदाकारी मील का पत्थर समान रही है। मुझे उनके साथ काम नहीं कर पाने का हमेशा मलाल रहेगा।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!