तीन दिवसीय ग्लोबल ताज इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल का जुबली हॉल में आयोजन, पुरस्कार वितरण संग हुआ समापन

फ़िल्म फेस्टिवल में तीनों दिन देश-विदेश की कई फिल्मों और म्यूजिक वीडियोज की हुई स्क्रीनिंग।

फ़िल्म फेस्टिवल में फोटोग्राफी-सिनेमाटोग्राफी और एक्टिंग पर कार्यशालाओं का किया गया आयोजन।

ब्रज पत्रिका, आगरा। ग्लैमर लाइव फिल्म्स द्वारा डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय के कन्हैयालाल माणिकलाल हिंदी एवं भाषाविज्ञान विद्यापीठ के सहयोग से तीन दिवसीय ग्लोबल ताज इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल का आयोजन विवि के जुबली हॉल में किया गया। जिसमें देश-विदेश की फिल्मों की स्क्रीनिंग की गयी। उदघाटन माँ शारदा की प्रतिमा के समक्ष दीप जलाकर कुलपति प्रो. अशोक मित्तल ने किया।

कुलपति प्रो. अशोक मित्तल ने कहा,

“ये एक सार्थक प्रयास है। सिनेमा जन-जन तक संदेश पहुँचाने का सशक्त माध्यम है, उन्होंने खुद सिनेमा के अर्थतंत्र पर ही पीएचडी की। जिसमें उन्होंने सिंगल स्क्रीन सिनेमा और उसके आर्थिक ढाँचे का भी अध्ययन किया। सिनेमा बहुत बड़ी तादाद में रोज़गार भी मुहैया करवाता है, आज तमाम युवा इसमें भविष्य भी तलाश रहे हैं। मुझे खुशी है यह कार्यक्रम हमारे विश्वविद्यालय के संस्थान ‘के.एम.आई.’ के साथ में जुड़कर हो रहा है।”

अध्यक्षता संस्कार भारती के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बाँके लाल गौड़ ने करते हुए संस्कार जागरण की बात कही,

“फिल्मों को अगर सार्थक विषयों पर बनाया जाये तो वे समाज को एक दिशा देती हैं, समाज में परिवर्तन का कारण बनती हैं। एक बहुत बड़े वर्ग पर इनका प्रभाव पड़ता है, इसलिये फिल्मकारों को देश और समाज हित में ऐसे विषय चुनने चाहिए जो कि दोनों के लिए लाभकारी हों। शिक्षा व संस्कार दोनों का समावेश हो।”

शुरू में जिजीविषा गिडवानी ने शास्त्रीय नृत्य की प्रस्तुति दी। विशिष्ट अतिथियों में मुम्बई से आये दिलीप दलवी, सत्येंद्र शुक्ला, हरिओम शर्मा और रामा मेहरा आदि थे। संगीत नाटक अकादमी के सदस्य और फेस्टिवल के संरक्षक रंजीत सामा ने स्वागत भाषण दिया। फिल्म फेस्टिवल के डायरेक्टर सूरज तिवारी ने इस फेस्टिवल के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला। मंच संचालन समाजसेवी हरीश सक्सेना ‘चिमटी’ ने किया।

पहले दिन ‘पीपली लाइव’ फेम एक्टर ओमकार मानिकपुरी (नत्था) अभिनीत फ़िल्म ग्रीन सिग्नल दिखाई गयी। इसमें उमा शंकर आदि आगरा के कलाकारों ने भी अभिनय किया है। कविता रायजादा की कहानी पर बनी इस फ़िल्म के निर्देशक शरद सिंह ठाकुर और निर्माता अनीषा फिल्म्स इंटरनेशनल के आर. आर. दीक्षित थे।

दूसरे दिन कार्यक्रमों का उदघाटन उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री चौधरी उदयभान सिंह ने किया।

चौधरी उदयभान सिंह ने फिल्म फेस्टिवल की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि,

“इस प्रकार के कार्यक्रम युवाओं को बेहतर रोजगार की ओर ले जाते हैं। आप सबका शुक्रिया जो इस मुश्किल दौर में भी शहर में एक बेहतर कार्यक्रम आयोजित हो रहा है।”

दूसरे दिन दोपहर कार्यशालाओं का आयोजन हुआ।

पहली कार्यशाला सिनेमाटोग्राफी और फ़ैशन फोटोग्राफी पर थी। मुंबई से आए विपिन गौजे ने फोटोग्राफी, सिनेमेटॉग्राफी के विषय में तकनीकी बारीकियों के साथ फोटोग्राफी के तरीके बताए।

विपिन गौजे ने बताया कि किस प्रकार इस क्षेत्र में करियर बेहतर बना सकते हैं। युवाओं के लिए यह बेहतर प्लेटफार्म साबति हो रहा है।

इसकी कोर्डिनेटर मिस यूपी सारा मून और डॉ. महेश धाकड़ थे।

दूसरी कार्यशाला एक्टिंग की थी। जिसमें एनएसडी के 2006 बैच के पास आउट आशीष शुक्ला ने अभिनय संबंधित जानकारियाँ दीं। उन्होंने बताया कि हर व्यक्ति के अंदर कला मौजूद है। बस उसे निखारने भर की आवश्यकता है। इसके साथ ही उन्होंने अभिनय की बारीकियों से अवगत कराया। इसको एक्टर सत्यव्रत मुदगल और उमा शंकर मिश्र ने कोर्डिनेट किया।

आशीष शुक्ला, विपिन गोज़े के साथ चीफ कॉर्डिनेटर डॉ. महेश धाकड़, कॉर्डिनेटर मिस यूपी सारा मून, बॉलीवुड एक्टर सत्यव्रत मुदगल और थिएटर एक्टर उमा शंकर मिश्र का  आयोजकों द्वारा सम्मान भी किया गया।

सेलेब्रिटी सिंगर राजीव राजा ने तुम जैसे शब्बो का सहारा है दोस्तों पर… झूमने को मजबूर कर दिया।

तीसरे दिन के कार्यक्रमों के मुख्य अतिथि विधायक योगेंद्र उपाध्याय थे। समापन समारोह के मुख्य अतिथि सांसद एसपी सिंह बघेल थे।

विशिष्ट अतिथियों में डिप्टी लेबर कमिश्नर, समाजसेवी रूबी सहगल, एक्ट्रेस नितिका शर्मा शामिल थीं। शुरुआत में आरती तोमर ने शास्त्रीय नृत्य किया।

मुख्य अतिथि प्रोफेसर एस. पी सिंह बघेल, सांसद आगरा ने इस मौके पर कहा कि,

“इस समय शहर को तरोताजा करने और अहम जानकारियां देना किसी औषधि  से कम नहीं हैं। यह ग्लोबल ताज फ़िल्म फेस्टिवल का आयोजन इस दिशा में बेहतर प्रयास है। फिल्में चाहे देश की हो या विदेश की हो। वह हमारे आस-पास के जीवन से संबंधित होती हैं। जो प्रेरणा के साथ-साथ बेहतर जीवन जीने के लिए भी प्रेरित करती हैं। हर फिल्म कुछ कहती है।”

इन संस्थाओं ने टीम के साथ देखीं फिल्में

वैचारिक जागरण मिशन ट्रस्ट की प्रतिभा जिंदल की टीम ने ‘चैंपियन गर्ल’, रोटरी क्लब आफ ताज और आईएमए की टीम ने डा. आलोक मित्तल, राजीव उपाध्याय के साथ ‘द सांग आफ द सी’, अवाम-ए-आगरा से सोमा सिंह की टीम ने ‘खिल गई एक कली’, ताज लिटरेचर क्लब की भावना वरदान शर्मा ने टीम के साथ स्विटजरलैंड की फिल्म ‘एमरांडे’ को देखा और सराहा। ईएनटी विशेषज्ञ डा.मनोज चतुर्वेदी और डॉ. डीवी शर्मा ने अपनी-अपनी टीम के साथ ‘द शॉकिंग मैरिज’ मूवी देखकर उसको सराहा।

तीनों दिन देश-विदेश की मूवीज और म्यूजिक वीडियो की स्क्रीनिंग हुई। म्युजिक वीडियो आ भी जाओ न, फ़िल्म एंटी कोरोना वायरस, मुंबई की रेस्पेक्ट हर, पुर्तगाल की अन्नापाकता, अमेरिका की कैथरीन किंडर गार्टन, ईरान की द रुटेशन, इटली की लुकिंग फॉर द ट्रुथ, जापान की कम अगेन, एफएक्स एनीमेशन एरीना, कोलकाता की एक मुलाकात फिल्मों को दर्शकों ने सराहा।

समारोह में प्रो. यूसी शर्मा, वीडी शुक्ला, अरविंद गुप्ता, मंगल सिंह धाकड़, मुकेश नेचुरल, अखिलेश चौधरी, भगत सिंह बघेल, आदर्श नंदन को भी सम्मानित किया गया। एंकरिंग राहुल उपाध्याय और पीएस गीत ने की।

कार्यक्रम में तीनों दिन सिने प्रेमियों की चाय की चौपाल भी गुलज़ार रही। जिसमें चाय की चुस्कियों के साथ फिल्मों को लेकर चर्चाओं का दौर जारी रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!