राजेन्द्र रघुवंशी को समर्पित समारोह में शहीद स्मारक पर किया नुक्कड़ नाटक, सुनाये गीत-कविता और मल्हार

आगरा। नाट्य पितामह श्री राजेन्द्र रघुवंशी जन्म शताब्दी समारोह के अंतर्गत 19 अगस्त की शाम शहीद स्मारक पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें वक्ताओं ने रघुवंशी जी के व्यक्तित्व और कृतित्व को याद करते हुए युवाओं से प्रेरणा लेने का आह्वान किया। कार्यक्रम में शिवा नाट्य केंद्र द्वारा सोमनाथ यादव के निर्देशन में नुक्कड़ नाटक ‘हमें प्यास लगी है पानी दो’ का प्रदर्शन किया गया। नाटक में रंगकर्मियों ने पानी की विकराल हो चली समस्या को मुखर करते हुए जल सरंक्षण के प्रति जन जागरूकता का प्रयास किया वहीं सरकार से साफ पीने का पानी जानता को मुहैया कराने की मांग उठायी। दर्शकों ने इस प्रस्तुति को तालियों से सराहा। वहीं इप्टा द्वारा दिलीप रघुवंशी के निर्देशन में स्व.श्री राजेन्द्र रघुवंशी द्वारा लिखित गीत और कविताओं का मंचन किया गया। जिनमें सांस्कृतिक और साहित्यिक रंगत के साथ कलाकारों द्वारा जन-जन की भावनाओं, अपेक्षाओं और जरूरतों को मुखर किया गया था। कलाकारों की इन प्रस्तुतियों की भूरि भूरि प्रशंसा की।
नुक्कड़ नाटक की प्रस्तुतियाँ देने वाले कलाकारों में शिवा नाट्य केंद्र के रॉकी कुमार, सुमित मिश्र, रोहन कुमार, करण यादव, रूपक शर्मा, उदित शर्मा, रोहित राठौर, मुदित बंसल आदि शामिल थे। इप्टा द्वारा प्रस्तुत कविताओं और गीतों में परमानंद शर्मा, भगवान स्वरूप, अनुज गोस्वामी, सतीश कुशवाह, सौरभ राजावत, रिदम किंकर, असलम खान ने कई गीत सुनाये-फांसी का फंदा चूमकर मरना सिखा दिया, मरना सिखा दिया हमें जीना सिखा दिया…। शहीदों तुमको मेरा सलाम…। बाधक हों तूफान बवंडर नाटक नहीं रुकेगा…। रिदम किंकर ने ‘रेत का महल’ कविता सुनाई। कमल गोस्वामी ने कविता ‘नूरी दरवाजा’ सुनायी। जय कुमार ने ‘नकटे नेता’ कविता सुनाई। शुरुआत में समारोह समिति के संयोजक हरीश सक्सेना चिमटी ने विचार व्यक्त किये। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि आरबीएस कॉलेज के पूर्व प्राचार्य डॉ. जवाहर सिंह धाकरे ने भी अपने ओजस्वी विचार व्यक्त किए। हिंदी मर्मज्ञ डॉ. श्रीभगवान शर्मा ने भी विचार व्यक्त किये। इस मौके पर मौजूद संस्कृति-साहित्य प्रेमियों में कवियत्री डॉ. शशि तिवारी, सर्वज्ञ शेखर गुप्त, जनवादी लेखिका विनीता त्रिपाठी, गजलकार अशोक रावत, शिक्षाविद डॉ. मनुकान्त शास्त्री, ठा. विजयपाल सिंह एडवोकेट, पत्रकार डॉ. महेश धाकड़, रंगकर्मी विशाल रियाज, समीर सिंघल, अनिल जैन, उमाशंकर मिश्र, सत्य प्रकाश शुक्ला, आशी शीराज़ आदि मौजूद थे। संचालन दिलीप रघुवंशी ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!