UA-204538979-1

पूनम जाकिर के कविता संग्रह ‘नाच’ को भोपाल के हेमंत फाउंडेशन द्वारा वर्ष 2023 के लिए देश का सर्वश्रेष्ठ कविता संग्रह चुना गया

डीवीवीएनएल में सेवारत आगरा की पूनम जाकिर के नाम हुआ राष्ट्रस्तरीय हेमंत स्मृति कविता सम्मान-2023

पूनम जाकिर के कविता संग्रह ‘नाच’ को भोपाल के हेमंत फाउंडेशन द्वारा इस वर्ष के लिए चुना गया देश का सर्वश्रेष्ठ काव्य संग्रह।

ब्रज पत्रिका, आगरा। दक्षिणांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड (डीवीवीएनएल) में सेवारत आगरा की सुपरिचित युवा कवयित्री एवं चित्रकार पूनम जाकिर के कविता संग्रह ‘नाच’ को भोपाल के हेमंत फाउंडेशन द्वारा वर्ष 2023 के लिए देश का सर्वश्रेष्ठ कविता संग्रह चुना गया है। पूनम जाकिर को इस कविता संग्रह के लिए 22 वां हेमंत स्मृति कविता सम्मान-2023 भोपाल में समारोहपूर्वक प्रदान किया जाएगा।

हेमंत फाउंडेशन की संस्थापक-अध्यक्ष संतोष श्रीवास्तव और संस्थापक-सचिव डॉ. प्रमिला वर्मा ने पुरस्कार की घोषणा करते हुए कहा है कि,

“बोधि प्रकाशन जयपुर द्वारा प्रकाशित पूनम जाकिर के इस कविता संग्रह ‘नाच’ की कई कविताएं मन को उद्वेलित करती हैं और उनकी संवेदना हर दृष्टि से निथर कर भाषा में विन्यस्त होती जाती है। प्रत्येक कविता अपने अर्थों में एक नया संसार रचित करती है।”

उनका कहना है कि,

“उर्मिला का मौन संवाद, अनिश्चितता, प्रेम की 4 कविताएं, पन्ना सहित ऐसी बहुत सी कविताएं हैं जो मन के भीतर तक उतर जाती हैं और अपनी हलचल बनाए रखती हैं। हलचल में गूंज होना अनिवार्य है और पूनम की कविताएं लंबे समय तक गूंज बनाए रखने में सक्षम रहेंगी।”

देश के 21 कवियों को मिला है हेमंत स्मृति कविता सम्मान

उल्लेखनीय है कि विश्व मैत्री मंच द्वारा संभावनाशील युवा कवि स्वर्गीय हेमंत श्रीवास्तव की स्मृति में संचालित हेमंत फाउंडेशन पिछले 21 वर्षों से साहित्य जगत में अपनी पारदर्शिता को लेकर अलग पहचान बनाए हुए है।

अब तक बोधिसत्व, संजय कुंदन, लीना मल्होत्रा, अनुराधा सिंह, रीता दास राम, हरि मृदुल, सुमिता केशवा, आलोक श्रीवास्तव, एकांत श्रीवास्तव, डॉ. राकेश पाठक और हरे प्रकाश उपाध्याय सहित देश के जाने-माने 21 कवि और साहित्यकारों को हेमंत स्मृति कविता सम्मान प्रदान किया जा चुका है।

हेमंत फाउंडेशन के पुरस्कार समारोहों में सुप्रसिद्ध आलोचक नामवर सिंह, जाने माने साहित्यकार राजेंद्र यादव, ममता कालिया, पद्मा सचदेव, निदा फ़ाज़ली, डॉ. गिर्राज किशोर, काशीनाथ सिंह और लीलाधर मंडलोई सरीखे साहित्यकार मुख्य अतिथि और समारोह अध्यक्ष के रूप में सहभागिता कर चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!