मनोरंजन जगत के सितारों ने भी फादर्स डे पर पिता को किया शिद्दत से याद

ब्रज पत्रिका, आगरा। देश-दुनिया में 21 जून को विगत वर्षों की भांति इस वर्ष भी फादर्स डे मनाया गया। इस मौके पर आम-ओ-खास ने अपने पिता के प्रति श्रद्धा और प्रेम का इज़हार अपने तरीके से किया। सोशल मीडिया पर भी इसको लेकर नाना प्रकार के पोस्ट छाये रहे। किसी ने पिता के साथ में सेल्फ़ी शेयर की तो किसी ने वीडियो साझा किया। किसी ने कोई कविता पोस्ट की तो किसी ने शेर-ओ-शायरी पोस्ट कीं। इस मामले में मनोरंजन जगत के सेलेब्रिटी कहाँ पीछे रहने वाले हैं, उन्होंने भी पिता को शिद्दत से यादकर फादर्स डे मनाया।

अक्षय केलकर (सोनी सब के ‘भाखरवाड़ी’ में अभिषेक)

मैं मूल रूप से महाराष्‍ट्र के दापोली का रहने वाला हूं। यह मेरे परिवार की पसंदीदा जगह है। वैसे वहां पर फिलहाल ऐसा कुछ नहीं है, जिसे हम अपना कह सकें। इसलिये, दापोली में मैं ऐसा घर और फार्म बनाने के अपने डैड के सपने को पूरा करने की दिशा में काम कर रहा हूं, जिसे हम अपना कह सकें। ऐसे तो मैं फादर्स डे नहीं मनाता लेकिन मुझे लगता है कि जिस दिन मैं अपने पिता के सपने को पूरा करूंगा, वही दिन मेरे लिये सही मायने में फादर्स डे होगा।
मेरे डैड ने जीवन के हर पड़ाव में हमेशा ही मेरा सपोर्ट किया है। अब जबकि हम जल्‍द ही शूटिंग शुरू करने वाले हैं तो मेरे डैड ने सेट के पास ही किराये के मकान में मेरे साथ रहने का फैसला किया है, ताकि मुझे घर का बना खाना मिल सके। मेरे डैड बहुत अच्‍छा खाना बनाते हैं और मुझे इस बात की खुशी है कि वह हमेशा मेरे पास होंगे। सोनी सब के ‘भाखरवड़ी’ के सेट पर जब मेरे डैड पहली बार आये थे, तो उससे जुड़ी काफी अच्‍छी यादें मेरे पास हैं। मुझे अभी भी याद है कि वह इस बात से कितने खुश हुए थे कि उनका बेटा एक एक्‍टर है।
वह एक रिक्‍शा ड्राइवर हैं और जब मुझे ‘भाखरवड़ी’ में रोल मिला तो वह काफी खुश थे और उन्‍हें मुझ पर गर्व महसूस हो रहा था। मेरे डैड को मुझ पर और मेरे भाई-बहनों पर हमेशा से ही भरोसा था कि हम जो भी कॅरियर चुनेंगे, अच्‍छा ही होगा। इतने सालों के बाद आज भी वह रिक्‍शा चलाते हैं और उनकी लगन और कड़ी मेहनत ने मुझे हर दिन ज्‍यादा से ज्‍यादा मेहनत करने के लिये प्रेरित किया है। मुझे इस बात पर गर्व है कि मैं उनका बेटा हूं।

देव जोशी  (सोनी सब के बालवीर रिटर्न्स के बालवीर)

मेरे डैड ने काफी संघर्ष किया है और आज वह एक सेल्‍फ-मेड बिजनेसमैन हैं। उन्‍होंने मुझे सिखाया है कि  ‘जो भी तुम्‍हारे पास है उसमें खुश रहो’। वह इस बात पर अटल थे कि मुझे एक अच्‍छा इंसान बनाना है इसलिये उन्‍होंने हमेशा ही मुझे मेरी गलतियों का ध्‍यान दिलाया, चाहे कैसा भी समय हो या कोई भी आस-पास हो। वह हर हाल में मेरे साथ खड़े रहे और इस इंडस्‍ट्री में मेरी सफलता की खुशी उन्‍हें मुझसे ज्‍यादा है। सिर्फ मेरे साथ ‘बालवीर रिटर्न्‍स’ के सेट पर रहने और मेरे चेहरे पर मुस्‍कुराहट लाने के लिये उन्‍होंने अहमदाबाद से मुंबई के बीच काफी सफर तय किया है। इस लॉकडाउन ने मुझे अपने डैड के साथ क्‍वालिटी टाइम बिताने का मौका दिया, क्‍योंकि उनकी फैक्‍ट्री भी बंद थी और वह घर पर हमारे साथ थे। इससे बाप-बेटे के रिश्‍ते को और बेहतर बनाने में मदद मिली। इन दिनों घर पर एक साथ रहते हुए हमने वाकई काफी अच्‍छी यादें संजोयी है। मेरे डैड तबला बजाते थे और मेरी मॉम और मैं गाते भी थे और डांस भी करते थे। इसलिये, डैड के साथ हर पल खूबसूरत और यादगार है। उन्‍होंने मेरे लिये जितना किया है उसकी तुलना तो मैं कभी नहीं कर सकता, लेकिन मेरा एक सपना है कि मैं उनके लिये गुजरात में एक सुंदर-सा घर खरीद कर दूं जिसमें गार्डन हो और झूले हों, क्‍योंकि मेरे डैड को झूला बहुत पसंद हैं। खैर वह सपना पूरा होने में तो अभी वक्‍त है लेकिन फादर्स डे पर छोटी-छोटी चीजें करके ही मैं उन्‍हें स्‍पेशल महसूस कराना चाहता हूं। इस साल के दौरान मुझे अपने डैड की जरूरत समझ में आ गयी है और फादर्स डे पर मैं वही चीज खरीद कर उन्‍हें सरप्राइज देना चाहता हूं। साथ ही मैं कभी भी उनके लिये हैंड-मेड कार्ड बनाना नहीं भूलता, क्‍योंकि इसमें पर्सनल टच शामिल होता है।‘’

युक्ति कपूर  (सोनी सब के मैडम सर में करिश्‍मा सिंह)

शूटिंग रुकने की वजह से मुझे अपने होमटाऊन जयपुर जाने और अपने परिवार के साथ वक्‍त बिताने का मौका मिला। पिछले 4 सालों से मैं मुंबई में ही हूं और हमेशा से मैं चाहती थी कि अपने घर जा पाऊं और थोड़ा लंबे समय तक रुकूं। एक महीने या फिर उससे ज्‍यादा और अपने डैड के साथ वक्‍त बिता पाऊं। इसलिये, इस दौरान हम खूब खेले, एक-दूसरे से ढेर सारी बातें कीं, खूब सारे जोक्‍स सुनाये और एक साथ खूब ठहाके लगाये। बचपन से ही मैंने उनके साथ बिताये हर पल को काफी संजोकर रखा है क्‍योंकि आज मैं जो कुछ भी हूं, मुझे बनाने में उनकी अहम भूमिका रही है। मेरे डैड ने मुझे हमेशा सिखाया कोई भी फैसला जल्‍दबाजी में मत लो और मैंने उनकी इस नसीहत को हमेशा याद रखा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!